Loksabha Chunav
मोटापे और इन चीजों पर ध्यान दीजिये नहीं तो किडनी से हाथ धोना पड़ सकता है

मोटापे और इन चीजों पर ध्यान दीजिये नहीं तो किडनी से हाथ धोना पड़ सकता है

कमलेश पांडे | Mar 14 2019 6:12PM
गाजियाबाद। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि किडनी की बीमारियों के चलते प्रतिवर्ष 24 लाख लोग काल की गाल में समा जाते हैं। जबकि दुनिया भर के 85 करोड़ लोग इस बीमारी से ग्रसित हैं। ऐसा इसलिए कि इन बीमारियों को लेकर जनजागरूकता की नितांत कमी है। यही वजह है कि प्रतिवर्ष 14 मार्च को वर्ल्ड किडनी डे मनाया जाता है, ताकि इसी बहाने लोगों को इस रोग के कारण और निवारण के बारे समुचित जानकारी दी जा सके। 
भाजपा को जिताए
 
दुनियाभर में 85 करोड़ लोग किडनी से संबंधित किसी न किसी समस्या से जूझ रहे हैं, जिसकी एक बड़ी तादाद भारत में भी है। लेकिन यहां मात्र 1200 किडनी विशेषज्ञ हैं और इसके इलाज के लिए 10,000 डायलिसिस केंद्र भी हैं। इसके अलावा, 1500 हीमोडायलसिस केंद्र भी हैं। फिर भी हर साल 24 लाख लोगों की मृत्यु किडनी की बीमारियों के कारण होती है। जबकि विश्वभर में किडनी से संबंधित बीमारियां मृत्यु का छठा सबसे प्रमुख कारण है। 
दरअसल हमारा शरीर अपने आप में एक अनूठी मशीन है, जिसका हर पुर्जा अपने हिस्से का काम बिना रूके करता रहता है। लेकिन अगर किसी तरह की लापरवाही हो तो बीमारी अपना सिर उठाने लगती है और एक हिस्से में पनपी बीमारी दूसरे अंगों पर भी असर डालती है। किडनी हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है जिसके प्रति लापरवाही जानलेवा हो सकती है क्योंकि हाल के वर्षों में खानपान और दिनचर्या में बदलाव के चलते दुनियाभर में किडनी की बीमारी से प्रभावित लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।
 
मेडिकल साइंस में क्रॉनिक किडनी डिजीज (सीकेडी) के नाम से पुकारे जाने वाले रोग का मतलब किडनी का काम करना बंद कर देना होता है। इसके बारे में जागरूकता फैलाने के लिए 14 मार्च को 'वर्ल्ड किडनी डे' मनाया जाता है। साल 2019 के 'वर्ल्ड किडनी डे' की थीम 'किडनी हेल्थ फॉर एवरी वन, एवरी वेयर' है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के आसपास आने वाले इस दिन पर महिलाओं को इस रोग के बारे में विशेष रूप से जागरूक किए जाने की जरूरत है।
 
किडनी के निष्क्रिय होने के कई कारण होते हैं, पर मूल कारण जो हम भारतीयों में पाया गया है, वह है लापरवाही या उपचार की व्यापक व्यवस्था का न होना। वर्तमान में उपचार की तो व्यापक व्यवस्था हो चुकी है, पर अभी भी लापरवाही को कम नहीं किया जा सका है। अमूमन, किडनी से संबंधित बीमारियों में गुर्दे में पथरी होना, गुर्दे का कैंसर और गुर्दे का निष्क्रिय होना है। इन तीनों ही परिस्थितियों में समय रहते अगर उपचार करा लिया जाए तो किडनी को बचाया जा सकता है। क्योंकि गुर्दे में पथरी के लक्षण दर्द, बुखार, उल्टी, पेशाब में खून आना व जलन होना है।
माना जाता है किडनी में पथरी होना आम बात है और यह सही भी है। क्योंकि इसका कारण लोगों का पानी कम पीना, गर्मी की अधिकता व इनफेक्शन का होना है। उन्होंने कहा कि हमारे लोग सहनशीलता और बीमारी में अंतर किए बगैर जीते हैं, जिसका परिणाम यह होता है कि शरीर सामान्य रूप से स्वस्थ्य नहीं रह पाता। लिहाजा, किडनी की बीमारियों से बचाव हेतु डॉक्टर कुछ महत्वपूर्ण सुझाव देते हैं। जैसे कि स्वस्थ आहार लें। शरीर का वजन सीमा में रखें। नमक का इस्तेमाल कम करें। अगर आपको डायरिया, उल्टी, बुखार आदि है तो डिहाइड्रेशन से बचाव के लिए खूब सारा तरल पदार्थ लें। नियमित रूप से व्यायाम करें। धूम्रपान या अन्य तंबाकू उत्पादों का इस्तेमाल न करें, क्योंकि धूम्रपान से किडनी में रक्तसंचार कम हो जाता है, जिससे पहले से हो चुकी समस्या गंभीर रूप ले सकती है। दर्द निवारक जैसी ओवर द काउंटर दवाओं का इस्तेमाल कम करें, क्योंकि ये आपकी किडनी को नुकसान पहुंचा सकती हैं। अगर आप हाई रिस्क ग्रुप में आते हैं तो किडनी फंक्शन की जांच नियमित रूप से कराएं।
 
- कमलेश पांडे

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप

भाजपा को जिताए
भाजपा को जिताए