खेल

मैकग्रा ने 600 टेस्ट विकेट के आंकड़े को पार करने के लिए एंडरसन का किया समर्थन

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Sep 12 2018 2:17PM

लंदन। आस्ट्रेलिया के पूर्व महान तेज गेंदबाज ग्लेन मैकग्रा ने 600 विकेट के आंकड़े को पार करने के लिए जेम्स एंडरसन का समर्थन किया है। इंग्लैंड के एंडरसन मंगलवार को मैकग्रा को पीछे छोड़कर टेस्ट क्रिकेट के इतिहास के सबसे सफल गेंदबाज बने। द ओवल में भारत के खिलाफ पांचवें और अंतिम क्रिकेट टेस्ट के अंतिम दिन एंडरसन ने मोहम्मद शमी को बोल्ड करके एंडरसन को पीछे छोड़ा और इंग्लैंड को टेस्ट में 118 रन की जीत दिलाई। मेजबान टीम ने श्रृंखला 4-1 से जीती।

एंडरसन अब 564 विकेट के साथ मैकग्रा को पीछे छोड़कर सबसे सफल टेस्ट तेज गेंदबाज बन गए हैं। वह सबसे सफल टेस्ट गेंदबाजों की सूची में अब मुथैया मुरलीधरन (800), शेन वार्न (708) और अनिल कुंबले (619) की स्पिन तिकड़ी से ही पीछे हैं। मैकग्रा ने ‘बीबीसी’ से कहा, ‘जिम्मी को देखा, वह फिट और उत्सुक नजर आ रहा है और दौड़ लगा रहा है, यह इस पर निर्भर करता है कि वह क्या करना चाहता है। वह मुझे पीछे छोड़ चुका है और मुझे लगता है कि अगला लक्ष्य 600 टेस्ट विकेट हैं।’

उन्होंने कहा, ‘अगर वह 600 टेस्ट विकेट हासिल करता है तो यह शानदार प्रयास होगा और अगर इसके बाद भी मैदान पर आगे बढ़ने का वही जोश और जुनून बरकरार रहता है तो फिर वह जब तक चाहे तब तक खेल सकता है।’ मैकग्रा ने अपने करियर में 124 टेस्ट में 563 विकेट हासिल किए और उनका अंतिम विकेट और कोई नहीं बल्कि एंडरसन ही थे।

एंडरसन 36 बरस के हैं और उन्हें करियर के अंतिम पड़ाव पर माना जा रहा है लेकिन मैकग्रा ने कहा कि इंग्लैंड का यह तेज गेंदबाज अभी खत्म नहीं हुआ है और उसका अगला लक्ष्य अनिल कुंबले का रिकार्ड है। मैकग्रा ने कहा, ‘मुझे लगता है कि उसमें अब भी जोश बाकी है। मैं जिम्मी को 600 रन के आंकड़े को हासिल करते हुए देखना चाहता हूं और फिर यह उस पर निर्भर करता है कि वह शीर्ष पर काबिज तीन स्पिनरों में से एक को हटाना चाहता है या नहीं। मुझे लगता है कि कुंबले के लगभग 619 विकेट हैं। यह उसके दायरे में है।’

शेयर करें:

लोकप्रिय खबरें

ओवैसी ने अमित शाह से पूछा तीखा सवाल- क्या भाजपा मुझे भी गाय देगीबात से पलटी कांग्रेस, कहा- आरएसएस पर प्रतिबंध लगाने की बात नहीं कहीममता को बड़ा झटका, पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव अकेले लड़ेगी कांग्रेसअनंत कुमार के निधन से देश ने अपना अमूल्य रत्न खो दिया: रघुवर दास