नेतन्याहू ने फलस्तीनी समूह के खिलाफ भारत के मतदान पर पीएम मोदी को दिया धन्यवाद

नेतन्याहू ने फलस्तीनी समूह के खिलाफ भारत के मतदान पर पीएम मोदी को दिया धन्यवाद

प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Jun 13 2019 6:52PM

यरूशलम। इजराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने संयुक्त राष्ट्र में उनके देश के पक्ष में मतदान करने के लिये अपने भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया है। संयुक्त राष्ट्र की आर्थिक और सामाजिक परिषद में भारत ने एक फलस्तीनी समूह को पर्यवेक्षक का दर्जा नहीं दिये जाने के इजराइली प्रस्ताव का समर्थन किया है। भारत ने मंगलवार को अपने पूर्व के रुख से अलग हटते हुए संयुक्त राष्ट्र आर्थिक और सामाजिक परिषद (ईसीओएसओसी) में फलस्तीनी गैर सरकारी संगठन ‘शहीद’ को पर्यवेक्षक का दर्जा दिये नहीं दिये जाने के इजराइली प्रस्ताव के पक्ष में मतदान किया था। इजराइल के मुताबिक संगठन ने हमास के साथ अपने रिश्तों के बारे में खुलासा नहीं किया है। 

नेतन्याहू ने छह जून को हुए मतदान के लगभग एक हफ्ते बाद बुधवार को किये गए एक ट्वीट में कहा कि संयुक्त राष्ट्र में इजराइल का साथ देने और उसके साथ खड़े रहने के लिये नरेंद्र मोदी का शुक्रिया, भारत का शुक्रिया। यह पहला मौका है जब भारत ने संयुक्त राष्ट्र में किसी प्रस्ताव पर मतदान किया है जिसे इजराइल के पक्ष में देखा जा रहा है। पश्चिम एशिया शांति प्रक्रिया को लेकर भारत रुख एक समान और स्पष्ट रहा है। 

इसे भी पढ़ें: ऑस्ट्रलियाई ने अरब-इस्राइली छात्र की हत्या और दुष्कर्म का जुर्म कबूला

संयुक्त राष्ट्र में ईसीओएसओसी मतदान के दौरान अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, भारत, जापान, ब्रिटेन, दक्षिण कोरिया और कनाडा ने इजराइल के पक्ष में मतदान किया जबकि चीन, रूस, सऊदी अरब, पाकिस्तान और अन्य ने इसके खिलाफ मतदान किया। फलस्तीनी एनजीओ ‘शहीद’ ने संयुक्त राष्ट्र में पर्यवेक्षक का दर्जा हासिल करने के लिये प्रस्ताव पेश किया था जो 28-14 मतों से खारिज हो गया। 

इसे भी पढ़ें: भारत ने संयुक्त राष्ट्र में फलस्तीनी NGO के खिलाफ इजराइली प्रस्ताव का समर्थन किया

भारत में इजराइली दूतावास की उप मिशन प्रमुख माया कडोश ने मंगलवार को एक ट्वीट में भारत का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि इजराइल के साथ खड़े रहने और आतंकी संगठन शहीद को संयुक्त राष्ट्र के पर्यवेक्षक का दर्जा देने की अपील को खारिज करने के लिए भारत का शुक्रिया। हम साथ मिलकर उन आतंकी संगठन के खिलाफ काम करते रहेंगे, जिनका मकसद नुकसान पहुंचाना है।कुडोश ने कहा कि संगठन के हिज्बुल्ला और फलस्तीनी इस्लामिक जिहाद से संबंध हैं, जिन्हें 1997 में आतंकी संगठन घोषित किया गया था।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप