'तुम्हारी सुलु' में विद्या का जोरदार अभिनय, फिल्म भी दमदार

'तुम्हारी सुलु' में विद्या का जोरदार अभिनय, फिल्म भी दमदार

प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Nov 20 2017 3:24PM

इस सप्ताह प्रदर्शित फिल्म 'तुम्हारी सुलु' इस साल की बेहतरीन फिल्मों में से एक है। अभिनत्री विद्या बालन का इस फिल्म में किया गया दमदार अभिनय लंबे समय तक याद रखा जायेगा। इस फिल्म के निर्देशक सुरेश त्रिवेणी इससे पहले विज्ञापन फिल्में बनाया करते थे। त्रिवेणी ने अपने पहले ही प्रयास में ऐसी बेहतरीन फिल्म बनायी है जिसे आप सपरिवार देख सकते हैं। महिलाओं को यह फिल्म काफी भाएगी क्योंकि इसमें बखूभी दिखाया गया है कि मध्यवर्गीय महिलाएं कैसे अपने कैरियर और घर के बीच सांमजस्य स्थापित करती हैं और रोजाना नई चुनौतियों पर विजय पाती हैं।

 
फिल्म की कहानी पूरी तरह सुलु (विद्या बालन) पर केंद्रित है। वह मध्यवर्ग से ताल्लुक रखती है और अपने पति तथा बेटे के साथ रहती है। उसके सपने और महत्वकांक्षाएं काफी बड़ी हैं। एक बार वह रेडियो जॉकी का काम पाने के लिए ट्राई करती है तो सफल होती है। उसे रात का शो करने का मौका मिलता है और यह शो इतना लोकप्रिय हो जाता है कि सुलु रातोंरात स्टार आरजे बन जाती है। वह लोगों की तरह-तरह की समस्याएं भी रेडियो पर सुलझाती है। उसका काम बढ़ने से उसके परिवार पर असर पड़ने लगता है। सुलु का पति घर को संभालने के साथ-साथ पत्नी को भी खुश रखने का प्रयास करता है लेकिन जब उस पर काम का बोझ बढ़ता है तो वह भी झुंझलाने लगता है। ऐसे में कैसे सब चीजें कैसे सुलु संभालती है यही फिल्म में दिखाया गया है।
 
अभिनय के मामले में विद्या बालन का जवाब नहीं। विद्या के फैन्स को तो यह फिल्म मिस नहीं करनी चाहिए। सुलु के पति के रोल में मानव कौल जमे हैं और उनका काम भी दर्शकों को पसंद आयेगा। नेहा धूपिया तथा अन्य कलाकारों ने भी अच्छा काम किया है। फिल्म का एक गीत 'बन मेरी रानी' आजकल काफी सुना जा रहा है। अन्य गीत भी ठीकठाक हैं। फिल्म दर्शकों को काफी गुदगुदाती है। निर्देशक की कहानी पर पूरे समय पकड़ बनी रही और उन्होंने पटकथा के साथ पूरा न्याय किया है।
 
कलाकार- विद्या बालन, नेहा धूपिया, मानव कौल और निर्देशक सुरेश त्रिवेणी।
 
- प्रीटी

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.