ऑस्ट्रेलिया से जीतना है तो इन तीन खतरों से रहना होगा विराट सेना को सावधान

ऑस्ट्रेलिया से जीतना है तो इन तीन खतरों से रहना होगा विराट सेना को सावधान

दीपक मिश्रा | Jun 8 2019 4:29PM
वर्ल्ड कप में टीम इंडिया अपना पहला मुकाबला जीत चुकी है। इस जीत के साथ विराट सेना के हौंसले भी बुलंद है। वैसे तो दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले मैच में भारतीय टीम ने कई गलतियां की लेकिन आखिर में नतीजा जीत से निकला। इस मैच को भारतीय टीम दो पहलुओं के हिसाब से देखना चाहेगी। एक तरफ जहां रोहित शर्मा, बुमराह और चहल जैसे खिलाड़ियों ने दिखाया कि वो अकेले दम पर ही मैच का पासा पलट सकते है और इस वर्ल्ड कप को देश के नाम करने के लिए वो कुछ भी करेंगे। वही दूसरी तरफ टीम के खिलाड़ियों को विचार करना होगा कि मुश्किल परिस्थितियों में अपने आप में से बेस्ट प्रदर्शन किस तरह से निकाले जिसका उदाहरण रोहित शर्मा ने पहले मैच में शानदार शतक जड़ बखूबी ढंग से दिया। अब भारत का अगला मुकाबला मौजूदा चैंपियन ऑस्ट्रेलिया से है। वो ऑस्ट्रेलिया जो इस वर्ल्ड कप में पिछले हर बार की तरह खिताब जीतने का सबसे बड़ा दावेदार माना जा रहा है। कंगारू टीम अब ज्यादा मजबूत हो चुकी है। इस टीम के सबसे धाकड़ खिलाड़ी स्टीवन स्मिथ और डेविड वार्नर वापसी कर चुके है। और इस वर्ल्ड कप में जमकर धमाल भी मचा रहे है। कंगारू टीम की गेंदबाजी अलग लेवल की है। टीम में मिचेल स्टार्क और पैट कमिंस जैसे गेंदबाज है जो किसी भी बल्लेबाजी लाइनअप की धज्जियां उड़ा सकते है। ऐसे में सवाल यह उठता है कि टीम इंडिया को कंगारू टीम के खिलाफ किस तरह का खेल दिखाना होगा जिससे उन्हें जीत नसीब हो सकें। वहीं ऑस्ट्रेलिया टीम के वो कौन से खिलाड़ी होंगे जिसके सामने भारत को संभलकर खेलना होगा साथ ही उनके खिलाफ ऐसी रणनीति बनानी होगी जिससे भारत जीत हासिल कर सकें।
वार्नर बजा सकते हैं खतरे की घंटी
एक साल के बैन के बाद वापसी करने के बाद डेविड वार्नर तो हर समय गेंदबाजों की खबर लेने में लगे हुए है। पहले आईपीएल में वार्नर ने अपने बल्ले से जमकर कहर बरपाया। इसका नतीजा हुआ कि वो आईपीएल में सबसे ज्यादा रन बनाकर ऑरेंज कैप जीत गए। इसके बाद उन्होंने वर्ल्ड कप में कंगारू टीम में वापसी की औऱ अपने पहले मैच में ही दिखा दिया कि सभी गेंदबाजों को उनसे डरने की जरूरत है। वार्नर इस समय कंगारू टीम के सबसे बड़े हथियार है और भारत के खिलाफ वो और ज्यादा खतरनाक हो जाते है। वार्नर स्पिन को बेहतरीन तरीके से खेलते है। जिसकी वजह से भारतीय टीम को उन्हें रोकने में परेशानी हो सकती है। ऐसे में विराट सेना को जल्द ही वार्नर को आउट करने का हल निकालना होगा। क्योंकि अगर मैच में वार्नर का बल्ला गरजा तो भारत की मुश्किलें बढ़ सकती है।
स्मिथ के तूफान को रोकना नहीं होगा आसान
इस वर्ल्ड कप में स्टीवन स्मिथ एक शांत तूफान की तरह लग रहे है जो हर मैच के साथ अपने रंग में लौट रहे है। विंडीज के खिलाफ स्मिथ ने भले ही धीमी पारी खेली हो और अपने पुराने आक्रामक अंदाज में नहीं दिखाई दिए है। लेकिन ये सभी जानते है कि स्मिथ अगर रंग में आ जाएं तो वो क्या कुछ कर सकते है। स्मिथ ने विंडीज के खिलाफ मुश्किल परिस्थितियों में बेहतरीन पारी खेली। उन्होंने दिखा कि इस ऑस्ट्रेलियन टीम के मिडिल आर्डर का वो सबसे अहम हथियार है। अगर किसी मौके पर टॉप आर्डर फेल होता है तो स्मिथ अकेले दम पर टीम को मैच जिता सकते है। स्मिथ का रिकार्ड भारत के खिलाफ शानदार रहा है। इसके अलावा स्मिथ स्पिन गेंदबाजी को भी बखूबी ढ़ंग से खेलना जानते है। स्पिन खेलने में महारथी स्मिथ को आउट करना भारतीय गेंदबाजों के लिए मुश्किल भरा हो सकता है। ऐसे में विराट सेना को इस खतरे से बचने के लिए खास रणनीति बनानी होगी। क्योंकि अगर मैच में स्मिथ का बल्ला चला तो ऑस्ट्रेलिया की बल्ले-बल्ले हो सकती है। 
 
स्टार्क की स्विंग से रहना होगा भारतीय बल्लेबाजों को सावधान
भारतीय बल्लेबाजों को अगर स्टार्क से पार पाना है तो उनके खिलाफ तकनीकी रूप से मजबूत होना पड़ेगा। इसके साथ ही विकेट पर समय भी बिताना होगा। भारतीय बल्लेबाजों को स्टार्क को अपने ऊपर हावी होने का मौका नहीं देना होगा। क्योंकि अगर मैच में स्टार्क की उंगलियों से निकली घूमती गेंदों ने टीम इंडिया के बल्लेबाजों को आउट करना शुरू कर दिया तो मैच जीतना काफी मुश्किल हो जाएगा। स्टार्क ने भारत के खिलाफ 7 वनडे मुकाबले खेले है जिसमें 4.67 के इकॉनमी रेट से 12 विकेट अपने नाम किए है जबकि 43 रन देकर 6 विकेट उनका बेस्ट है। स्टार्क इस साल आईपीएल खेलने भी नहीं आए थे जो ये दिखता है कि स्टार्क ने छुपकर कितनी तैयारी की होगा क्य़ोंकि आईपीएल में उनकी गेंदें टीम इंडिय़ा के बल्लेबाज भांप वर्ल्ड कप में उन पर भारी पड़ सकते थे। 
 
- दीपक मिश्रा
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.