आखिर कैसे हार का तिलिस्म तोड़ पाएगी विराट की रॉयल चैलेंजर बैंगलोर!

आखिर कैसे हार का तिलिस्म तोड़ पाएगी विराट की रॉयल चैलेंजर बैंगलोर!

दीपक कुमार मिश्रा | Apr 4 2019 12:26PM
आईपीएल-12 की शुरूआत हुए लगभग दो सप्ताह बीत गए है। इस बीच कई टीम ने शानदार प्रदर्शन दिखाकर अपने प्रशंसकों का दिल जीता है। वहीं कई टीमें अभी भी जीत की पटरी पर लौटने के लिए अपनी सारी कोशिश कर रही है। आईपीएल के रोमांच की कोई सीमा नहीं है। फटाफट क्रिकेट के इस दौर में शायद ही कोई व्यक्ति हो जिसे क्रिकेट के इस प्रारूप को देखने में मजा नहीं आता है। हर टीम की फैन फॉलोविंग अलग है और इनकी टीमें प्रशंसकों के लिए परिवार जैसी है। आईपीएल में रॉयल चैलेंजर बैंगलोर के रूप में एक ऐसी ही टीम है। जिसके फैन फॉलोविंग की कोई सीमा नहीं है। पूरे भारत में इस टीम को पसंद करने वाले लोग मौजूद है। वही अगर इस टीम पर नजर डाली जाएं तो इसके कप्तान विराट कोहली हैं। इस समय विश्व क्रिकेट के सबसे बेहतरीन बल्लेबाजी की कप्तानी वाली टीम में एबी डिविलियर्स नाम का तूफान भी जिसके सामने गेंदबाज थर-थर कांपते है। वहीं पिछले कई सीजन से इस टीम में क्रिकेट की दुनिया के तमाम सुपरस्टार आते जाते रहे है। हालांकि इस टीम की ताकत ही इसकी सबसे बड़ी कमजोरी है। जिसके वजह से आईपीएल के पिछले 11 सीजन में इस टीम ने एक बार भी खिताब अपने नाम नहीं किया है। इस बार भी टीम की हालत शुरू से खराब नजर आ रही है। टीम लगातार हार का मुंह देख रही है। जिसकी वजह से कभी टीम के कप्तान तो कभी टीम के संयोजन पर सवाल खड़े किए जा रहे है। अब सवाल यह उठता है कि क्या इस टीम में सितारों का भरा होना ही इसकी सबसे बड़ी कमजोरी है। क्या इस टीम के खिलाड़ी विराट कोहली और एबी डिविलियर्स जैसे सितारों पर इतना निर्भर है कि वो अपना प्रदर्शन करना ही भूल जाते है। आरसीबी की ताकत या कमजोरिया जो भी हो बस सच यह है कि यह टीम अभी भी आईपीएल में अपने आपको साबित करने में नाकाम रही है। आईपीएल के पिछले 11 सीजन में इस टीम ने 3 बार फाइनल का सफर तय किया लेकिन एक बार खिताब अपने नाम नहीं कर पाई है। इस बार भी टीम काफी खराब परिस्थितियों में है। आखिर क्या चीज है जो इस टीम का तकदीर अभी भी बदल सकती है। क्योंकि अभी भी आधे से ज्यादा आईपीएल बाकि है और टी-20 में किसी भी वक्त पासा पलट सकता है। जिसकी वजह से आरसीबी को अभी भी उम्मीद नहीं छोड़नी चाहिए।
विराट कोहली को करना होगा बल्लेबाजी में नेतृत्व
 
विराट कोहली इस समय दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज है। विश्व क्रिकेट में विराट के नाम का डंका बजता है। उनके बल्ले से हर गेंद पहले विराट को सलाम करती है, उसके बाद वो बाउंड्री का रास्ता नापती है। विराट आईपीएल में भी काफी शानदार पारियां खेल चुके है। वो आईपीएल में 5 हजार रन बनाने वाले दूसरे बल्लेबाज है। आईपीएल के एक सीजन में सबसे ज्यादा रन और एक सीजन में सबसे ज्यादा शतक जड़ने का रिकार्ड भी विराट के नाम ही दर्ज है। हालांकि इस बार के आईपीएल में विराट का बल्ला खामोश ही रहा है। विराट ने अभी भी तक अपने कद के अनुसार कोई बड़ी पारी नहीं खेली है। विराट जैसे खिलाड़ी से बड़ी पारी खेल टीम को लीड करने की उम्मीद की जाती है। लेकिन इस सीजन में विराट ऐसा करने में नाकाम रहे है। अगर आरसीबी को इस आईपीएल में जीत की पटरी पर लौटना है तो विराट कोहली को बड़ी पारियां खेलनी होगी। वहीं विराट को अपने दम पर मैच भी जिताने होंगे। क्योंकि विराट कोहली अच्छा प्रदर्शन करेंगे तो इससे टीम के दूसरे बल्लेबाजों का भी काफी आत्मविश्वास बढ़ेगा और ऐसा हुआ तो धीरे-धीरे रॉयल चैलेंजर बैंगलौर के किस्मत के ताले भी खुल जाएंगे।
आरसीबी गेंदबाजों को दिखाना होगा दम
 
आरसीबी की हमेशा से गेंदबाजी कमजोर पक्ष रही है। इस टीम में बल्लेबाजों का हमेशा से दबदबा रहा है। जिसके वजह से इस टीम को आईपीएल के सबसे मनोरंजक टीमों में से एक माना जाता है। पिछले हर सीजन की तरह इस बार भी टीम के गेंदबाज प्रदर्शन करने में नाकाम रहे है। टीम में कई युवा गेंदबाज है, जिसके वजह से दबाव भरे वक्त में अनुभव की साफ कमी दिखाई देती है। वैसे इस टीम में टिम साउदी और उमेश यादव के रूप में तेज गेंदबाज है। लेकिन वो भी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने में नाकाम ही साबित रहे है। इस टीम में युजवेंद्र चहल के रूप में एक गेंदबाज है। जिसके प्रदर्शन को देखकर कुछ उम्मीद जरूर बढ़ती है। लेकिन अकेले वो भी टीम को जीत नहीं दिला सकते है। अगर आरसीबी को अपने प्रदर्शन में सुधार करना है, तो इस टीम को अपनी गेंदबाजी में सुधार करना होगा। अगर ऐसा नहीं हुआ तो विराट कोहली और एबी डिविलियर्स जैसे बल्लेबाजों के होने के बावजूद भी इस टीम को हार का सामना ही करना पड़ेगा।
 
- दीपक कुमार मिश्रा

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.