क्या विराट की टीम में खिलाड़ियों का रोल फिक्स नहीं है ?

क्या विराट की टीम में खिलाड़ियों का रोल फिक्स नहीं है ?

दीपक मिश्रा | May 17 2019 10:44AM
इंग्लैंड में खेला जाने वाला वर्ल्ड कप अब नजदीक आता जा रहा है। टीम इंडिया भी तीसरी बार वर्ल्ड चैंपियन बनने के लिए पूरी तरह से तैयार है। टीम इंडिया का ऐलान किया जा चुका है और टीम हर मायनों में मजबूत भी नजर आ रही है। वर्ल्ड कप से पहले टीम इंडिया में कुछ खामियां तो है लेकिन उसे भी अब दूर कर दिया गया है। दरअसल पिछले 2 साल से टीम इंडिया नंबर 4 के बल्लेबाज को लेकर हर तरह के तरीके आजमा चुकी है। लेकिन वहां कोई परफेक्ट खिलाड़ी नहीं मिल सका। जिसके बाद आखिरकार विजय शंकर को वर्ल्ड कप की टीम में मौका दिया गया तो लगा कि वो अब नंबर चार की मामला सुलझ गया है। लेकिन टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री ने फिर एक बार नंबर चार की पहेली उलझा दी है। शास्त्री के मुताबिक इस टीम में किसी भी खिलाड़ी का कोई रोल फिक्स नहीं है। शास्त्री ने कहा है कि इंग्लैंड जाने वाली हमारी टीम में लचीलापन है। जरूरत के हिसाब से नंबर 4 तय किया जाएगा। हमारे तरकश में काफी तीर है। हमारे पास कई खिलाड़ी हैं जो चौथे नंबर पर उतर सकते हैं। मुझे उसकी चिंता नहीं है। हमारे पास जो 15 खिलाड़ी है वो कभी भी, कहीं भी खेल सकते हैं। रवि शास्त्री का ये बयान कई तरह के सवाल भी खड़ा करता है। अगर ऐसा हुआ तो वो कौन से बल्लेबाज है जो नंबर चार पर टीम इंडिया का काम आसान कर सकते है। वर्ल्ड कप से पहले कोच रवि शास्त्री की यह चेतावनी किस और इशारा करती है। आखिर अब जब वर्ल्ड कप इतने नजदीक है तो विराट की टीम में कुछ भी फिक्स क्यो नहीं है। क्या अभी तक नंबर 4 की टेंशन नहीं सुलझ पा रही है।
जाहिर है रवि शास्त्री की यह बातें क्रिकेट प्रेमियों के दिल में तमाम तरह की बातें खड़ी करती है। वर्ल्ड कप अब जब इतने नजदीक है और विजय शंकर अगर नंबर 4 पर नहीं खेलते है। उस समय वह कौन सा बल्लेबाज होगा जो भारत के लिए इंग्लिश सरजमीं पर नंबर 4 पर बल्लेबाजी कर सकें। मजबूत टॉप आर्डर वाली टीम इंडिया के अगर जल्दी विकेट गिर जाते है तो वह कौन सा बल्लेबाज होगा जो टीम को संभाल सकें और मजबूत हालत में पहुंचा सकें। 
एमएस धोनी सुलझाएंगे नंबर 4 की पहेली!
महेंद्र सिंह धोनी 2019 में जादूई फार्म में है। आईपीएल में भी उनका बल्ला जमकर गरजा है और उन्होंने कई मौके पर नंबर 4 पर बल्लेबाजी की है। धोनी का अनुभव भी इंग्लैंड के पिच पर टीम इंडिया के लिए वरदान बन सकता है। इंग्लिश सरजमीं पर गेंद हर समय लहराती रहती है और अगर टीम इंडिया का टॉप आर्डर कभी फेल होता है तो उस समय धोनी जैसा बल्लेबाज संभल कर बल्लेबाजी करने के साथ मैच को फिनिश करने के लिए भी सबसे बेस्ट हैं। इसके साथ इंग्लैंड में निचले क्रम के बल्लेबाजो के साथ धोनी का अनुभव भी काम कर सकता है जिसकी वजह से टीम इंडिया को फायदा होगा। 
 
दिनेश कार्तिक होंगे नंबर 4 के लिए परफेक्ट!
इंग्लैंड में दिनेश कार्तिक भी नंबर चार पर एक बेहतर विकल्प हो सकते है। कार्तिक की स्विंग खेलने की काबिलियत उन्हें ज्यादा बेहतर बनाती है इसके साथ ही वह मैच भी फिनिश करने का दम रखते है। साल 2018 में निदहास ट्रॉफी के बाद भी कार्तिक ने कई अच्छी पारियां खेली है, जिसे देखकर टीम मैनेजमेंट उनपर भरोसा जता सकता है। वही कार्तिक के अनुभव को लेकर विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री भी उनका साथ देते है। इसके साथ कार्तिक विकेटकीपिंग का भी एक अलग विकप्ल देते है। वहीं कार्तिक को भी इंग्लिश सरजमीं पर खेलने का अनुभव है जो टीम इंडिया के लिए फायदे का सौदा हो सकता है। जाहिर है कार्तिक जैसा बल्लेबाज नंबर 4 पर टीम इंडिया के लिए बेहतर हो सकता है। वह नाजुक मौके पर विकेट बचाने के साथ स्कोर बोर्ड बढ़ाना भी जानते है और आखिर के ओवरों में उनके पास लंबे हिट लगाने की भी क्षमता है। 
टीम इंडिया के लिए चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करेंगे केएल राहुल?
इंग्लैंड जाने वाले टीम में वैसे तो केएल राहुल एक बैकअप ओनपर दिखाई पड़ते है। लेकिन शास्त्री के बयान ने राहुल के नंबर 4 पर खेलने की उम्मीदें बढ़ा दी है। सफेद गेंद की क्रिकेट में राहुल बेहतरीन बल्लेबाज है और आईपीएल में उनका फार्म भी उन्हें नंबर 4 पर खिलाने के लिए टीम इंडिया को मजबूर कर सकता है। साफ है टीम इंडिया के पास काफी विकल्प है लेकिन इंग्लिश सरजमी पर विराट सेना को काफी सोच समझकर फैसला लेने की जरूरत है। नंबर 4 टीम बैटिंग आर्डर की सबसे जरूरी जगह होती है जहां उन्हें एक बल्लेबाज चाहिए जो किसी भी हालत में बल्लेबाजी करने का दम रखता हो। अगर टीम इंडिया के लिए यह मंत्र काम कर गया तो भारत को तीसरी बार विश्व चैंपियन बनने से कोई नहीं रोक सकता है।
 
- दीपक मिश्रा

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.