स्कॉलरशिप से करें इंजीनियर या डॉक्टर बनने का अपना सपना साकार

स्कॉलरशिप से करें इंजीनियर या डॉक्टर बनने का अपना सपना साकार

Buddy4Study India Foundation | Nov 12 2018 4:16PM
किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से वर्ष 2014 से लेकर 2019 तक 12वीं पास कर चुके विद्यार्थी या जो 2019 में 12वीं की परीक्षा देने वाले हैं और जिन्होंने हाल ही में इंजीनियरिंग या मेडिकल एग्ज़ाम दिए हैं या एग्ज़ाम की तैयारी कर रहे हैं, वे सभी “ऑल इंडिया यूथ स्कॉलरशिप एंट्रेंस एग्जामिनेशन (एआईवाईएसईई) 2019” की परीक्षा में ऑनलाइन या ऑफलाइन शामिल हो सकते हैं। विद्यार्थी यह परीक्षा अंग्रेजी व हिंदी माध्यम में दे सकते हैं जिसमें फिजिक्स, कैमिस्ट्री, मैथमेटिक्स/बायोलॉजी विषय में प्रत्येक से सम्बंधित 30-30 प्रश्न पूछे जाएँगे जो 90 मिनट में हल करने होंगे। गलत जवाब देने पर नेगेटिव मार्किंग नहीं होगी। इस एंट्रेंस टेस्ट के जरिये ऐसे मेधावी विद्यार्थी जो कमजोर आर्थिकी के चलते इंजीनियरिंग, डॉक्टर बनने का सपना पूरा नहीं कर पा रहे हैं, उन्हें इस परीक्षा में प्रदर्शन के आधार पर स्कॉलरशिप की सहायता प्राप्त होगी।  
 
मानदंड
इस परीक्षा में 12वीं पास विद्यार्थी या जो 12वीं की परीक्षा देने वाले हैं, वे भाग ले सकते हैं, जिसमें विद्यार्थियों को न्यूनतम 55 प्रतिशत अंक लाने होंगे।
 
लाभ/ईनाम
उपरोक्त एंट्रेंस एग्जाम में प्राप्त अंकों के आधार पर 3 माह से लेकर 5 वर्ष तक की इंजीनियरिंग व मेडिकल स्कॉलरशिप दी जाएगी।  
  
अन्य महत्वपूर्ण जानकारी
इस स्कॉलरशिप टेस्ट के लिए आवेदन करते समय विद्यार्थी स्वयं की ईमेल आईडी व मोबाइल नंबर का प्रयोग करें, क्योंकि कोई भी महत्वपूर्ण सूचना आपके द्वारा उपलब्ध कराए गए मोबाइल नंबर व ईमेल पर ही दी जाएगी, इसके अतिरिक्त विद्यार्थी को स्वयं की रंगीन फोटोग्राफ व सिग्नेचर(हस्ताक्षर) की स्कैन कॉपी की भी आवश्यकता होगी।
 
अंतिम तिथि
21 नवम्बर, 2018 तक आवेदन किया जा सकता है। 
 
आवेदन कैसे करें
इच्छुक विद्यार्थियों को ऑनलाइन आवेदन करना होगा।
 
ऑनलाइन आवेदन हेतु महत्वपूर्ण लिंक
 
अधिक जानकारी के लिए आप हमारी वेबसाइट पर जाकर प्रक्रिया फॉलो कर सकते हैं।
 
साभार: www.buddy4study.com

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.