नौवीं कक्षा में पढ़ रहे बच्चे ऐसे हासिल कर सकते हैं स्कॉलरशिप

नौवीं कक्षा में पढ़ रहे बच्चे ऐसे हासिल कर सकते हैं स्कॉलरशिप

Buddy4Study India Foundation | Nov 22 2018 3:43PM

राज्य सरकार, सरकारी सहायता प्राप्त व स्थानीय निकाय के स्कूल से नौवीं कक्षा की शिक्षा प्राप्त कर रहे मेधावी विद्यार्थी जिनकी आर्थिक स्थिति ठीक न हो व जो अपनी शिक्षा को जारी रख पाने में असमर्थता महसूस कर रहे हों ऐसे विद्यार्थी मानव संसाधन विकास मंत्रालय के स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग, भारत सरकार द्वारा प्रदान की जा रही “नेशनल मीन्स कम मैरिट स्कॉलरशिप 2018-19” के लिए आवेदन कर आर्थिक सहायता प्राप्त कर सकते हैं। इस स्कॉलरशिप से पूरे भारत में एक लाख विद्यार्थियों को लाभ मिलेगा। नवोदय विद्यालय, केन्द्रीय विद्यालय सैनिक स्कूल व प्राइवेट स्कूल के विद्यार्थी इस स्कॉलरशिप के लिए आवेदन के पात्र नहीं हैं।

मानदंड
 
इस स्कॉलरशिप के लिए मानदंड इस प्रकार हैं-
1. विद्यार्थी जो 10वीं से 12वीं कक्षा की शिक्षा राज्य सरकार, सरकारी सहायता प्राप्त व स्थानीय निकाय के स्कूलों से जारी रखने के इच्छुक हों। 
2. विद्यार्थी ने सातवीं व आठवीं कक्षा में न्यूनतम 55 प्रतिशत अंक प्राप्त किये हों (एससी/एसटी के विद्यार्थियों को 5 प्रतिशत की छूट रहेगी)
3. पारिवारिक वार्षिक आय 1.50 लाख से अधिक न हो।
 
लाभ/ईनाम
 
इस स्कॉलरशिप के लिए चयनित विद्यार्थी को 6000 रुपए तक की स्कॉलरशिप प्रतिवर्ष प्राप्त होगी।  
 
अंतिम तिथि
 
15 दिसम्बर, 2018 तक आवेदन किया जा सकता है। 
 
आवेदन कैसे करें
 
इस स्कॉलरशिप के लिए इच्छुक विद्यार्थी ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। आवेदन हेतु लिंक का उपयोग करने पर गवर्नमेंट का नेशनल स्कॉलरशिप पोर्टल खुलेगा, जिसमें आपको सेंट्रल स्कीम के नीचे छठे नंबर पर लिखे डिपार्टमेंट ऑफ़ स्कूल एजुकेशन एंड लिट्रेसी पर क्लिक करना होगा, जहाँ पर उल्लेखित स्कॉलरशिप का नाम व उसके सामने अप्लाई बटन पर क्लिक करके आवेदन किया जा सकता है।
 
ऑनलाइन आवेदन हेतु महत्वपूर्ण लिंक
 
अधिक जानकारी के लिए आप हमारी वेबसाइट पर जाकर प्रक्रिया फॉलो कर सकते हैं।
 
साभार: www.buddy4study.com
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप


Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.